Movie prime

एक बेटी मरकर समाज को दे गई संदेश, सुसाइड नोट में लिखा, समाज ने दे दी मुझे जिंदा मौत

आप समाज के लोगों की नजरों में तलाक लेना गलत है, परिवार के खिलाफ शादी करना गलत है, तो फिर यह आटा-साटा भी गलत है।
 

सुमन ने क्या लिखा सुसाइड नोट में 

राजस्थान के नागौर जिले में आटा-साटा कुप्रथा ने एक विवाहिता की जिंदगी ले ली। आमतौर पर शादी के बाद लड़कियां अपने घर और जीवनसाथी के साथ खुश रहती हैं, लेकिन इस मामले 21 वर्षीय सुमन का जीवन मुरझा गया था। उसने खूब सपने संजोए थे, लेकिन उसे अपने सपनों का राजकुमार नहीं मिला था। सुमन इस शादी से कितनी नाराज थी। इसका अंदाजा उसके सुसाइड नोट से लगाया जा सकता है। उसने लिखा है कि मेरी चिता को सिर्फ मेरा छोटा भाई अग्नि दे।

दो साल पहले नागौर जिले के नावां थाने के ग्राम हेमपुरा में दो दिन पहले एक 21 वर्षीय शादीशुदा युवती सुमन चौधरी ने कुएं में कूद कर अपनी जान दे दी। शादी के बाद उसने इसे ही नियति मानकर समझौता कर लिया। पति उसे छोड़कर विदेश में पैसा कमाने चला गया, तो वह और टूट गई। मायके लौट आई और आठ महीने से यही रह रही थी।

वायरल हो गया सुसाइड नोट

आटा-साटा कुप्रथा जैसी गलती को करने के लिए अब सुमन के घर वाले उसे पागल और मानिसक बीमार करार दे रहे हैं, लेकिन सुमन की मौत के बाद उसका सुसाइड नोट खूब वायरल हो रहा है। इस सुसाइड नोट में लिखा कि सामाजिक कुप्रथा आटा-साटा ने लाखों लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी है। इन प्रथाओं की वजह से लड़कियों को समाज में जिंदा मौत मिलती है और मेरी भी मौत का कारण समाज ही है। हालांकि परिवार की ओर से दी रिपोर्ट में बताया कि वह मानसिक रूप से परेशान थी। सुसाइड नोट मिलने के बाद पुलिस भी जांच में जुट गई है।

​​​​​​सुमन के चाचा ने पुलिस को बताया की वह तो मानसिक बीमार थी। ग्राम हेमपुरा निवासी सुमन के चाचा ने पुलिस को बताया कि मेरे भाई नानूराम की पहले मृत्यु हो चुकी है। उसकी बेटी की शादी हुई थी और उसका पति विदेश रहता है। सुमन आठ महीनों से हमारे पास ही रह रही थी। सुमन को गत चार पांच दिनों से मानसिक रूप से परेशानी थी, जिसके कारण वह हमारे घर के पास के एक कुएं में गिर गई, जिससे उसकी मौत हो गई।

सुमन ने क्या लिखा सुसाइड नोट में 

मेरा नाम सुमन चौधरी है। मुझे पता है सुसाइड करना गलत है, पर में सुसाइड करना चाहती हूं। मेरे मरने की वजह मेरा परिवार नहीं, पूरा समाज है, जिसने आटा-साटा नाम की कुप्रथा चला रखी है। इसके कारण लड़कियों को जिंदा मौत मिलती है। इसमें लड़कियों को समाज के समझदार परिवार अपने लड़कों के बदले बेचते हैं।

आप समाज के लोगों की नजरों में तलाक लेना गलत है, परिवार के खिलाफ शादी करना गलत है, तो फिर यह आटा-साटा भी गलत है। आज इस प्रथा के कारण हजारों लड़कियों की जिंदगी और परिवार पूरे बर्बाद हो गए हैं। इस प्रथा के कारण पढ़ी-लिखी लड़कियों की जिंदगी खराब हो जाती है। इसी प्रथा के कारण 17 साल की लड़की की शादी 70 साल के बुजुर्ग से कर दी जाती है। केवल अपने स्वार्थ के कारण।
मैं चाहती हूं, मेरी मौत के बाद यह मेरी बातें बनाने की जगह, मेरे परिवार वालों पर उंगली उठाने की जगह, इस प्रथा के खिलाफ आवाज उठाएं। इस प्रथा को बंद करने के लिए शुरुआत करनी होगी। मेरी हर एक भाइयों को अपनी बहन की राखी की सौगंध, अपनी बहन की जिंदगी खराब करके अपना घर न बसाए। आज इस प्रथा के कारण समाज की सोच कितनी खराब हो गई है कि लड़की के पैदा होते ही तय कर लेते हैं कि इसके बदले किसकी शादी करानी है।

लड़की के बदले लड़की की सौदेबाजी करना होता है आटा-साटा

आटा- साटा एक सामाजिक कुप्रथा है। इसके तहत किसी एक लड़की की शादी के बदले ससुराल पक्ष को भी अपने घर से एक लड़की की शादी उसके पीहर पक्ष में करानी होती है। इसमें योग्यता और गुण नहीं बल्कि लड़की के बदले लड़की की सौदेबाजी होती है। वर्तमान दौर में जब लड़कियों की बेहद कमी है तो कई समाज में इसे खुले तौर पर किया जाने लगा है। इसके चलते कई पढ़ी-लिखी जवान लड़कियों की शादी अनपढ़ और उम्रदराज लोगों से कर दी जाती है। जिसके चलते ऐसी कई लड़कियों की जिंदगी तबाह हो रही है।