Movie prime
राजस्थान में हुआ 15 साल की लड़की का अपहरण, मास्क हटाया तो बोले माफ़ करना गलती हो गई, वापस छोड़कर आते है जाने पूरी घटना 
 

कहते है ना दोस्तों अगर आपका वक़्त अच्छा है तो आपके साथ कुछ बुरा नहीं हो सकता फिर चाहे आपके सामने कोई भी आ जाए। ऐसी ही एक घटना राजस्थान के राज्य में घटी है जिस पर यकीन करना या ना करना वो आप पर निर्भर है परन्तु ये बात पूरी तरह से सच है। 

आखिर हुआ क्या 

जैसा की आप सब अच्छे से जानते है की कोरोना ने हमारे देश समेत दुनिया के बड़े-बड़े देशों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है मगर इनमे से जो निकलकर बचा है वो है मास्क को सही से पहनने वाले लोग। इसके बाद आपको बताना चाहूंगा की अगर कोई मास्क पहना हुआ इंसान आपके सामने आ जाए तो क्या आप उसे पहचान लेंगे या फिर। नहीं अधिकतर लोगों को हम नहीं पहचान पाते है। ऐसा ही हादसा हुआ है राजस्थान के राज्य में जब एक 15 साल की लड़की अपने घर से बाहर निकलती है तो उसके कुछ दुरी पर 5-6 बदमाश आते है और लड़की को वेन में डालकर ले जाते है। जिसके बाद वे लोग लड़की को शहर से बाहर ले जाते है परन्तु तभी उनमे से एक लड़की का मास्क हटा कर देखता है तो उनके होश उड़ जाते है। एक उनमे से कहता यार बहुत बड़ी गलती हो गई ये वो लड़की नहीं है जिसे हम किडनेप करने आये थे। चलो इसको वापस छोड़कर आते है। 

लड़की ने खुद बताई बात 

पीड़ित बच्ची ने बताया कि वह  मास्क लगाकर घर से पैदल अपने सहेली के घर जा रही थी। इसी दौरान पीछे से एक वैन आई और मेरे सामने लगा दी। इसके बाद उसमें से चार-पांच लोग उतरे और मेरे चेहरे पर कपड़ा डालकर गाड़ी में डाल दिया। शहर से बाहर जाते ही उन्होंने मेरा मास्क हटाया तोवे कहने लगे यह वह लड़की नहीं जिसे हमको उठाना है। फिर बदमाशों मेरे कानों के टॉप्स ले लिए और मुझे  ट्रांसपोर्ट नगर में वैन से उतार कर भाग गए। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। आखिर कैसे दिनदहाड़े एक बच्ची को बदमाश उठाकर ले जाते हैं यह सवाल भी पुलिस प्रशासन पर खड़े हो रहे हैं।

लड़की की माँ ने क्या कहा 

आपको बता दूँ यह घटना अलवर शहर के दारूकूटा कालोनी की है। जहां 10वीं में पढ़ने वाली बच्ची को बदमशा उठाकर ले गए थे। मामले की जानकारी मिलते ही बच्ची की मां ने थाने पहुंची और बेटी के अपहरण होने की शिकायत लिखवाई। पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। लेकिन दो तीन घंटे बाद ही लड़की ने मां के नंबर फोन किया और कहा मैं यहां पर हूं। इसके बाद उसे परिजन लेने गए और उसने माता-पिता को सारी कहानी बताई।