Home खबर पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की...

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की सजा

111
0
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की सजा
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की सजा

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ की मुश्किलें बढ़ गई है है अब पाकिस्तान की कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए उन्हें फांसी की सजा सुनाई है। पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार पेशावर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस वकार अहमद सेठ की अध्यक्षता में परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में मंगलवार को फांसी की सजा सुनाई गई है।

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ इस समय दुबई में है उनके खिलाफ 2007 में पाकिस्तान में इमरजेंसी लगाने के जुर्म में दिसम्बर 2013 में उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दायर किया गया था वही इसके बाद उन्हें 31 मार्च 2014 को देशद्रोह केस में दोषी ठहराया गया था।

एयर एम्बुलेंस से लंदन के लिए रवाना हुये पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ

इससे पहले पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने लाहौर हाई कोर्ट में एक याचिका दायर करवाई थी। जिसमे इस्लामाबाद की एक विशेष अदालत के समक्ष मुकदमे को बंद करने का आग्रह किया गया था।

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की सजा
पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को देशद्रोह केस में फांसी की सजा

पाकिस्तान के एक अख़बार की खबर के मुताबिक, परवेज मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज है। उनके खिलाफ नवम्बर 2007 में एमरजेंसी लागू करने और दिसम्बर 2007 के बीच में संविधान को निलंबित करने के आरोप में दिसम्बर 2013 को उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

अदालत ने कैसे लिया फैसला 

अदालत ने मुशर्रफ को फांसी की सजा सुनाते हुए कही की यह अदालत शिकायतों, रिकॉर्डो, तर्कों, तथ्यों को मध्य नज़र में रखते हुए, उन्हें संविधान के अनुछेद 6 का दोषी पाया गया है।  यह फैसला बहुमत के आधार पर लिया गया है। इस मामले में तीन जजों ने मिलकर पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ के खिलाफ फैसला सुनाया है।

परवेज मुशर्रफ ने किया था तख्तापलट 

परवेज मुशर्रफ ने किया था तख्तापलट 
परवेज मुशर्रफ ने किया था तख्तापलट

पाकिस्तान की सत्ता को पाने के लिए मुशर्रफ ने अक्टूबर 1999 में सैन्य विरोध करे थे। वही 2001 में सैन्य प्रमुख रहते हुए परवेज मुशर्रफ ने खुद को पाकिस्तान का राष्ट्रपति घोषित कर दिया था। इसके बाद अप्रैल 2001 में जनमत संग्रह करवाकर पांच साल के लिए पाकिस्तान का राष्ट्रपति बन गए थे।

मुशर्रफ 2007 का चुनाव जीतकर एक बार फिर पाकिस्तान के राष्ट्रपति बन गए थे, परन्तु उनके चुनाव को कोर्ट में चुनौती दी गई और इसके लिए उन्होंने देश में इमरजेंसी लागु कर दी थी। इसके बार मुशर्रफ ने अगस्त 2008 में अपने पद से इस्तीफा दे दिए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here