सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले से पहले दीपोत्सव के चलते अयोध्या छावनी में तब्दील हो चुका है हालांकि यहां हमेशा ही हाई सिक्योरिटी रहती है लेकिन इस बार हालात ज्यादा संवेदनशील बनते हुए दिखाई दे रहे इसी को मद्देनजर रखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेंद्र तिवारी डीजीपी ओपी सिंह सहित कई बड़े अफसरों ने लगातार अयोध्या का दौरा किया है सुरक्षा के लिहाज से अयोध्या को तीन जोन में बांट दिया गया है रेड जॉन जल्लो जॉन ब्लू जॉन मैं बांट दिया गया है

रजौन में विवादित स्थल की सुरक्षा को बढ़ावा दिया गया वहीं जहां सुरक्षा बल आधुनिक हत्यारों वॉच टावर ग्राम कैमरा सीसीटीवी से ले से अयोध्या में दाखिल होने के सभी रास्तों घाटियों और सरयू नदी के तटों के निगरानी के लिए सैकड़ों सीसीटीवी कैमरे लगवाए गए हैं अयोध्या में दाखिल होने वाले सभी प्रवेश द्वारों पर बैरिकेडिंग की गई है सुरक्षा व्यवस्थाओं के लिए पीएसी की 47 कंपनियां तैनात है जल्द ही 200 कंपनियां पीएससी और अर्धसैनिक बल भी तैनात किए जाएंगे अयोध्या में

सार्वजनिक स्थलों पर भी टीवी डिबेट आरोप कारसेवक पुरम शांत रहे

1989 1991 और 2003 के शीला धान के दौरान राम भक्तों का छोड़ रहा कारसेवक पुरम शांत रहा धारा 144 लागू होने के बाद प्रशासन ने सार्वजनिक स्थलों पर भी टीवी डिबेट पर रोक लगा दी है मंगलवार को अयोध्या में दीपोत्सव पर अफसरों की एक प्रमुख बैठक हुई जिसमें संत भी पहुंचे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here