आज से शुरू हो रहा है सावन का पावन महीना

सावन
सावन

हिंदू धर्म में सावन या Monsoon माह को भगवान भोलेनाथ की भक्ति का महीना माना गया है। जिसमे शंकर भगवान  की पूजा की जाती हे।  तथा बढ़ के पेड में पानी देते है,उसकी पूजा की जाती है। शिव को समर्पित इस महीने में गंगा स्नान, भगवान शिव की आराधना की जाती है। तथा Monsoon महीने में सोमवार के दिन व्रत रखने वाले भक्तों की मनोकामना पूर्ण होती है। इस महीने में सोमवार को भगवान शिव का जलाभिषेक और रुद्राभिषेक करने से सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण होती हैं।  तथा पावन सावन का महीना शुरू हो रहा है।

इस बार सावन माह 14 जुलाई से शुरू हो रहा है। 2022 में Monsoon मास में 4 सोमवार आते है । सोमवार के दिन विधिवत शिवजी की  पूजन बहुत ही ज्यादा लाभदायक माना जाता है। तथा इस साल Monsoon का पहला सोमवार 18 जुलाई को पड़ रहा है। Monsoon महीना 14 जुलाई से शुरू होकर 12 अगस्त को यानी सावन पूर्णिमा के दिन समाप्त हो जाएगा। Monsoon के महीने में ही कांवड़ की यात्रा भी निकाली जाती है। और कांवड़ यात्रा के दौरान शिव भक्त गंगा नदी से पवित्र जल भरते हैं और लंबी यात्रा करके शिव जी को जल अर्पित करते हैं।

सावन 2022 की महत्वपूर्ण तिथि

सावन
सावन
  • Monsoon महीना प्रारंभ: 14 जुलाई गुरुवार से होता है।
  • Monsoon सोमवार 2022 का पहला सोमवार: 18 जुलाई को है।
  • Monsoon सोमवार 2022 का दूसरा सोमवार: 25 जुलाई को है।
  • Monsoon सोमवार 2022 का तीसरा सोमवार: 1 अगस्त को है।
  • Monsoon सोमवार 2022 का पहला सोमवार: 8 अगस्त को है।
  • Monsoon महीना समाप्त: 12 अगस्त को होगा।

बन रहा है शुभ संयोग 

यूं तो पूरे सावन के महीने को ही शुभ माना जाता है। लेकिन इस बार सावन माह की शुरुआत एक नहीं बल्कि दो-दो शुभ योग के साथ शुरू हो रही है। Monsoon के पहले दिन ही विष्कुंभ और प्रीति योग का संयोग बन रहा है। और ज्योतिष के अनुसार ये दोनों ही योग बहुत  शुभ माने गए हैं।

ऐसे करें पहले सोमवार को व्रत

सावन
सावन

Monsoon के पहले सोमवार में व्रत रखने के लिए सुबह स्नान करके मंदिर जाकर भगवान शिव का जलाभिषेक करें। इस दौरान भगवान शिव को बेलपत्र धतूरा, भांग, चंदन, पुष्प आदि चढ़ाया जाता है। इसके बाद घर में जाकर भगवान शिव व मां पार्वती की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए।  पूजा करने के दौरान सबसे पहले भगवान गणेश की आरती करें। उसके बाद भगवान शिव और माता पार्वती की आरती करें। इसके बाद भगवान शिव को रोली, अक्षत, पुष्प, धूप व दीपक अर्पित करें। इसके बाद Monsoon सोमवार के व्रत की कथा पढ़ें व भगवान शिव का मंत्र का जाप करें।

इस बार Monsoon माह 14 जुलाई से शुरू हुआ है।

2022 में Monsoon मास में 4 सोमवार आ रहे हैं।

सोमवार के दिन विधिवत शिव पूजन बहुत लाभदायक माना जाता है।

 पार्वतीजी की तपस्या से शिव हुए प्रसन्न

सावन
सावन

Monsoon के महीने में ही भगवान भोले शंकर ने  अपनी पत्नी देवी पार्वती को पत्नी माना था।  इसलिए भगवान शिव को सावन का महीना बहुत ही प्रिय माना जाता  है।

श्रावण मास में हुआ समुद्र मंथन

सावन
सावन

समुद्र मंथन के दौरान निकले हुए विष को न तो देव और न ही दानव ग्रहण करना चाहते थे ।  लकिन भगवान शिव ने लोक कल्याण के लिए इस विष का पान कर लिया था। और उसे अपने गले में रोक लिया जिसके चलते उनका कंठ नीला पड़ गया। विष के प्रभाव से भगवान शिव का ताप बढ़ने लगा तब सभी देवी-देवताओं ने विष का प्रभाव कम करने के लिए भगवान शिव को जल अर्पित किया,जिससे उन्हें राहत मिली। इससे वे प्रसन्न हो गए थे । तभी से हर वर्ष Monsoon मास में भगवान शिव को जल अर्पित करने या उनका जलाभिषेक करने की परंपरा चली आ रही है।

श्रीराम ने किया अभिषेक

सावन
सावन

मान्यताओं के अनुसार श्रावण मास में भगवान श्री राम ने भी सुल्तानगंज से जल लिया था। और देवघर स्थित वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग का अभिषेक किया था । बस तभी से श्रावण में जलाभिषेक करने की परंपरा भी जुड़ गई।

Read Also – भगवान शिव की आराधना का पावन महीना सावन 14 जुलाई 2022 (Sawan 2022

Read Also – द व्हाइट लोटस एक अमेरिकी व्यंग्यात्मक कॉमेडी-ड्रामा एंथोलॉजी टेलीविज़न सीरीज़ है, 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *