गुरु पूर्णिमा किस दिन -जानिए गुरु पूर्णिमा पर क्या -क्या करे।

गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा

गुरु पूर्णिमा: जैसा की आप सब जानते है। हमारे जीवन में गुरुओ का सदियों से बहुत महत्व रहा है। हर किसी को आगे बढ़ने के लिए किसी न किसी की जरुरत होती है। आज हम उसी के बारे बात करेंगे। आगे की पूरी जानकरी के लिए हमारी वेबसाइट news7 todays .com पर जुड़े रहे यहाँ पर आपको गुरु पूर्णिमा के बारे में पूरी जानकरी मिलेगी। 

Guru Purnima 2022 Date and Time :-हर बर्ष की तरह इस बर्ष भी गुरु पूर्णिमा मनाई जा रही है। इस बर्ष 2022 को गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई को मनाई जाती है। हमारे पूर्वजो की परम्परा के अनुसार गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु का पूजन करके अपने गुरु की पूजा की जारी हैं। 

इस पूर्णिमा के दिन शिष्य गुरुओ पिजा करते है उनके लिए ब्रत रखते हैं गुरुओ की पूजा अर्चना करते है। 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा मनाई जा रही है। उस दिन बुधबार है। इस दिन को व्यास पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। या दिन बहुत खास होता है। यह दिन महर्षि कृष्णद्वैपायन वेदव्यास जी जयंती के रूप में मनाया जाता है।

वेदव्यास जी महाभारत के रचियता है जिन्होंने अपने बल पर पूरी महाभारत लिख दी थी।  ये दिन उनकी जयंती के रूप में बहुत खास तरीके से मनाया जाता है।

हिन्दुओ के प्रमुख गुरुओ के नाम बताओ 

वेदव्यास के अलावा   गुरुओं में श्री आदि शंकराचार्य, श्री रामानुज आचार्य तथा श्री माधवाचार्य उल्लेख मिलता है. गुरु पूर्णिमा को बौद्धों द्वारा गौतम बुद्ध के सम्मान में भी मनाया जाता है। कई लोगो का कहना है इस दिन ही गौतम बुध्द ने उत्तर प्रदेश में सारनाथ नमक स्थान वहा के लोगो को अपना पहला उपदेश दिया था।

 पूर्णिमा पर पूजन के लिए सबसे अच्छा समय ?

गुरु पूर्णिमा पर गुरु के पूजन के लिए सबसे अच्छा समय 13 जुलाई बुधबार को सुबह के 4 बजे से शाम की 10 बजे तक गुरु के पूजन का सबसे अच्छा महूर्त है। उस दिन मिथुन राशि वाले लोगो को अधिक लाभ मिल मिलेगा।

मैं आपको बता दू की ज्योतिष के अनुसार 14 जुलाई दोपहर 12 बजे तक गुरु पूर्णिमा का शुभ महूर्त है। आप 14 जुलाई के दोपहर 12 बजे तक भी अपने गुरु के लिए पूजा रख सकते हो।

गुरु पूर्णिमा के दिन कैसे करे गुरु का पूजन | आषाढ़ गुरु पूर्णिमा किस दिन -जानिए जानें पूजा विधि, मुहूर्त व महत्व | Latest Updates 2022 

 

गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
  • सुबह जल्दी उठकर नहा धोकर साफ कपड़े पहने
  • अपने इष्टदेवी या देवता की आरती करे।
  • भगवान की आरती कर उसे फूल मालाए चढ़ाये।
  • भगवान के तिलक लगाकर उन्हें जल अर्पित करे।
  • मंत्रो का जाप करे और भगवान की कथा सुने।
  • एक दिन का व्रत रखे।
  • गौमाता और भूखे लोगो को खाना खिलाये।
  • शाम के समय अपने घर में जिस किसी देवी या देवता मूर्ति है उसके सामने घी का दिया जलाये और आरती आये।
  • अगले दिन सुबह जल्दी उठकर नहा धोकर साफ कपड़े पहनकर। भगवान की आरती करके आप अपना व्रत खोल सकते हो

हिन्दुओ की परम्परा के अनुसार पूर्णिमा के दिन पीले वस्त्र पहना सबसे लाभदायक होता है। इस दिन गरीबो को  दान में गेहूं, चावल आदि बांटना चाहिए।इस दिन पर दान करना सबसे अच्छा माना जाता है। पीपल के पेड़ के निचे माता लक्ष्मी की पूजा करने से धन की समृद्धि होती है।

आप इस दिन किसी मंदिर जाकर भी वहा पर गरीबो को दान दे सकते हो। या उन्हें खाना खिला सकते हो। कई जगह गौ शाला बनी हुई है आप वहा जाकर भी गौ माता की पूजा करके उनका आशीर्वाद भी ले सकते हो। ऐसा करना बहुत लाभदायक होती है।

Read Also –Guru Purnima 2022 Date: आषाढ़ गुरु पूर्णिमा कब, जानें पूजा विधि, मुहूर्त व महत्व

Read Also-IND vs ENG टीम इंडिया के लिए आई बेहद बुरी खबर | Latest Update 2022 Very bad news for IND vs ENG team Indi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *