बादाम

खाने के फायदे

Almond का वैज्ञानिक नाम प्रूनस डलसिस है और यह रोजेसी परिवार से संबंध रखता है। इसमें फैटी एसिड, लिपिड, अमीनो एसिड, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट की उचित मात्रा होती है, जो शरीर को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं।

बादाम
बादाम

इन पोषक तत्वों के कारण होने वाले फायदों के बारे में नीचे विस्तार से जानिए। हां, इस बात पर भी ध्यान दें कि Almond किसी भी रोग का इलाज नहीं है, बल्कि यह स्वस्थ रहने के लिए दिनचर्या का अहम हिस्सा हो सकता है।

वजन कम करने के लिए – वजन कम करने के उपया के बारे में सोच रहे हैं, तो Almond का इस्तेमाल करें। एनसीबीआई में पब्लिश एक वैज्ञानिक रिसर्च में बताया गया है कि Almond को कम कैलोरी डाइट के साथ शामिल करके वजन कम किया जा सकता है।

Almond की तकरीबन 84 ग्राम मात्रा का रोजाना सेवन करने से चयापचय सिंड्रोम संबंधी असामान्यताएं दूर हो सकती हैं, जिसमें मोटापा भी शामिल है। रिसर्च में आगे बताया गया है कि बादाम का सेवन करने वालों में 24 हफ्ते बाद वजन में कमी पाई गई।

कैंसर से बचाव – Almond के फायदे में कैंसर से बचाव को भी शामिल किया जा सकता है। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि बादाम में एंटीकैंसर प्रभाव होता है, जो कैंसर सेल लाइन को बढ़ने से रोक सकता है।

साथ ही रिसर्च में कहा गया है कि खासकर कड़वे बादाम में मौजूद एमिग्डालिन में संभावित कैंसर का उपचार करना का प्रभाव हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल के लिए – जैसा कि लेख में हम बता ही चुके हैं कि बादाम के गुण की वजह से लो डेंसिटी कोलस्ट्रोल कम हो सकता है। साथ ही इसे ट्राइग्लिसराइड्स (एक प्रकार का वसा) के लेवल को कम करने के लिए भी जाना जाता है।

बादाम
बादाम

इतना ही नहीं, यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बनाए रखने में भी अहम भूमिका निभा सकता है। इसी वजह से छिलके रहित और छिलके सहित बादाम खाने के फायदे में कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रण को भी शामिल किया जाता है।

मस्तिष्क के विकास के लिए – याददाश्त बढ़ाने और मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को बेहतर करने में भी बादाम के फायदे हो सकते हैं। बादाम का सेवन करने से बढ़ती उम्र के साथ कमजोर होती याददाश्त और मस्तिष्क से जुड़ी न्यूरोडीजेनेरेटिव बीमारी से बचाव किया जा सकता है।

इसके लिए इसमें पाए जाने वाले टोकोफेरोल, फोलेट, मोनो व पॉली अनसैचुरेटेड फैटी एसिड और पॉलीफेनोल्स मददगार हो सकते हैं। ये पोषक तत्व उम्र से संबंधित कॉगनिटिव डिस्फंक्शन (याददाश्त कमजोर होना) को रोकने का काम कर सकते हैं।

इसके अलावा, बादाम को रातभर भिगोकर सुबह खाली पेट खाने की सलाह दी जाती है। दरअसल इसमें विटामिन-ई होता है, जो याददाश्त को तेज करने में अहम भूमिका निभा सकता है।

आंखों के लिए – बढ़ती उम्र के साथ-साथ आंखें भी कमजोर होने लगती हैं। ऐसे में आँखो की कमज़ोरी दूर करता हैं में Almond के फायदे हो सकते हैं। दरअसल, बादाम में विटामिन ई और जिंक की भरपूर मात्रा पाई जाती है।

ये पोषक तत्व आंखों से जुड़ी बीमारी एज रिलेटेड मैक्युलर डीजेनेरेशन को दूर रखने का काम कर सकते हैं। साथ ही Almond में जिंक होता है, जो रेटिना को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी माना जाता है ।

बादाम
बादाम

इसी वजह से कहा जा सकता है कि Almond के फायदे आंखों के लिए हो सकते हैं।

पौष्टिक तत्व

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 G
पानी4.41 g
ऊर्जा579 kcal
प्रोटीन21.15 g
टोटल लिपिड (फैट)49.93 g
कार्बोहाइड्रेट21.55 g
फाइबर12.5 g
टोटल शुगर4.35 g
मिनरल्स
कैल्शियम, Ca269 gm
आयरन, Fe3.71 gm
मैग्नीशियम , Mg270 gm
फास्फोरस, P481 gm
पोटैशियम, K733 gm
सोडियम, Na1 mg
जिंक, Zn3.12 mg
विटामिन्स
थाइमिन0.205 mg
राइबोफ्लेविन1.138 mg
नियासिन3.618 mg
विटामिन बी -60.137 mg
फोलेट DFE44 µg
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल)25.63 mg
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड3.802 g
फैटी एसिड, टोटल मोनोसैचुरेटेड31.551 g
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड12.329 g

खाने का तरीका

  • Almond को ऐसे ही साबूत खाया जा सकता है।
  • Almond को रातभर पानी में भिगोकर अगली सुबह इसे छिलके उतारकर खाया जा सकता है।
  • चिवड़ा में मिलाकर बादाम को खा सकते हैं।
  • कॉर्नफ्लेक्स या फ्रूट सलाद में Almond के टुकड़े को डालकर खा सकते हैं।
  • Almond का हलवा बनाकर खा सकते हैं।
  • Almond का सेवन मिल्क शेक में मिक्स करके किया जा सकता है।
  • केक में Almond का उपयोग करके खाया जा सकता है।
  • कई मिठाइयों में भी बादाम का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • इसे चॉकलेट में भी उपयोग किया जा सकता है।
  • Almond पाउडर को सादा या दूध में मिलाकर भी बादाम का सेवन किया जा सकता है।

Almond के नुकसान

  • कुछ लोगों को बादाम का सेवन करने से फूड एलर्जी हो सकती है।
  • गर्भवतियों में स्वास्थ्य संबंधी जटिलताएं हैं, तो बादाम के सेवन से पहले डॉक्टर एक बार ज़रूर पूछ ले और उनकी सलाह लेले।
  • Almond में फाइबर होता है। ऐसे में इसकी अधिकता होने पर पेट में गैस (पेट फूलना), सूजन और ऐंठन जैसी समस्या हो सकती है।
  • अध्ययनों से पता चलता है कि बादाम में ऑक्सालेट कंपाउंड होता है, जिससे गुर्दो में पथरी का जोखिम बढ़ सकता है।

 

Read Also – रोज सुबह खाली पेट बादाम खाना स्वस्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। सूखे हुए बादाम के मुकाबले भीगे हुए बादाम एंजाइम रिलीज करने में मदद करते हैं

Read Also – नाम है प्रफुल्ल बिल्लौरे मगर जाने जाते हैं ‘MBA चायवाला’ के नाम से। 25 साल के इन नौजवान के चाय का धंधा इतना चला कि टर्नओवर करोड़ों का हो गया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *