Movie prime
रोजगार के मुद्दे पर प्रियंका गांधी से चाहते थे राजस्थान के बेरोजगार युवा, परन्तु कांग्रेसियों ने फोड़ा सिर
 

भारतीय कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी के यूपी दौरे का दूसरा दिन है। पहले दिन उन्होंने यूपी सरकार की नीतियों पर कोसा और कहा कि इस सरकार की कामयाबी सिर्फ इतनी है कि नौजवानों बेबश हैं, योगी आदित्यनाथ सरकार रोजगार देने की बात करती है लेकिन हकीकत यह है कि बेरोजगारों को इंतजार है कि सरकारी नौकरी कब मिलेगी। लेकिन उसी बीच जब राजस्थान के स्थाई कंप्यूटर भर्ती से जुड़े प्रतिभागियों ने उनसे कांग्रेस दफ्तर में मिलने की कोशिश की गई तो उनसे मारपीट की गई। 

राजस्थान के युवा प्रियंका गांधी से चाहते थे मिलना

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से मिलने आये राजस्थान के स्थाई कंप्यूटर भर्ती के अभ्यर्थियों के साथ कांग्रेस के गुंडों ने की मारपीट की। ये अभ्यर्थी शुक्रवार को दोपहर से ही यूपी कांग्रेस के दफ्तर पर प्रियंका गांधी से मुलाकात करके अपनी बात कहने के लिए खड़े थे। लेकिन देर शाम कांग्रेस दफ्तर में प्रियंका गांधी की बैठक खत्म होने के बाद अभ्यर्थियों द्वारा एक बार फिर प्रियंका से मुलाकात करके अपनी पीड़ा कहने की मांग को लेकर जब बात कही गई तो कांग्रेस के कार्यकर्ता गुंडई पर उतारू हो गए और राजस्थान स्थाई कम्प्यूटर भर्ती के अभ्यर्थियों से मारपीट की गई। 

बीजेपी ने दिया बयान 

राजस्थान के पूर्व नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री और वर्तमान बीजेपी MLA प्र्ताव सिंह सिंघवी ने कहा की मैं पूछना चाहता हूं प्रियंका गांधी से कि आखिर इन बेरोजगार युवाओं का क्या दोष था? यह बस आपसे मिलना चाह रहे थे। इन्हे लगा कि आप अगर यूपी में संविदा पर भर्ती के खिलाफ हैं तो राजस्थान में तो आपकी सरकार है तो आप जरूर मदद करेंगी। पर इन्हे बेरहमी से क्यों मारा गया।

राजस्थान सरकार ने पीछे खींचे हाथ

हैरानी की बात तो यह है कि इस बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बयान दिया है कि पार्टी किसी भी सरकार की हो, लेकिन सबको नौकरी देना मुमकिन नहीं है। बता दें कि बेरोजगार पिछले कई दिनों से दिल्ली और जयपुर में धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच 100 से अधिक बेरोजगार प्रियंका गांधी से मिलने पहुंचे थे। प्रियंका गांधी करीब डेढ़ साल बाद लखनऊ दौरे पर हैं।