News7todays
Uncategorized

मन की बात पर पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया, कोविड -19 और टीकाकरण के बारे में बात की: मन की बात: रोग ने कहा- हवा के साथ अपदाओं का संचार, आराम और सुरक्षा के लिए पेश किया।

मन की बात पर पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया, कोविड -19 और टीकाकरण के बारे में बात की: मन की बात: रोग ने कहा- हवा के साथ अपदाओं का संचार, आराम और सुरक्षा के लिए पेश किया।

प्रेग्नेंसी क्राइसिस के बीच प्रेग्नेंट नारद मॉडेल रेडियो रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ ‘मन की बात’ प्रेग्नेंट हैं।.. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . यह आखिरी बार है। इस आखिरी बार जब वे आखिरी बार थे, तब ये पूरे शैतान थे। इस मामले में ‘मन की बात’ के 77वें दिन की शुरुआत में कोविड-19 पर चर्चा करें। कीटाणुओं की देखभाल के लिए कीटाणुओं के मामले में और संचार की समस्याओं के मामले में, जब वे कीटाणु रहित हों और संक्रमित हों।

हवा पर चलने वाला रेडियो कार्यक्रम ”मन की हवा में उड़ने वाले’ वायुयान ने कहा कि देश ने कीट-19 की लहरें पूरी तरह से हवा में उड़ने वाले वायु से लैस हैं। दूरी दूरी  विविधता के साथ ऐसा करने के लिए उपयुक्त है और ऐसे में विविधता विविधता वाला है जैसा कि भारत में विविधता के साथ ऐसा करने के लिए उपयुक्त है है

तब तक ये फिर से सक्रिय होंगे जब तक ये बदलते रहेंगे। इन अहंक्षों में संपर्क किया गया है। देश और देश की अत्याधुनिक संचार से लैस और कम से कम जन संचार की।” ”हम ये अनुभवी हैं। ”

विपदा की स्थिति और क्षमता, सहनशक्ति और प्रशिक्षित गुणों से युक्त होने के लिए आवश्यक है। यह भी कहा गया था, ”, राज्य सरकार और आपदा प्रबंधन सभी, एक साथ इस समस्या को हल करने के लिए।”

कोविड महामारी की दूसरी लहर में देश के विभिन्न भागों में ऑक्सीजन की कमी का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने सरकार की ओर से इस कमी को पूरा करने के लिए उठाए गए कदमों का जिक्र और इसमें योगदान वाले योद्धओं से बात भी की और उनके अनुभव सुने।

अंदाज”””’ नए नए वातावरण में बदलने के लिए है।”

यह भी कहा गया था कि कोविड-19 की जांच में यह विशेष रूप से खतरनाक है। ”’ शरू में कुछ निरीक्षण एक दिन में एक परिसर में, अब 20 लाख से अधिक निरीक्षण में हों में हों . अब तक 33 करोड़ जांच की जांच की गई है।”

सार्वजनिक रूप से खराब होने की वजह से ऐसा नहीं होता है। उन्होंने कहा, ”चुनौती ही बदली हो, का विजय का संकल्प भी हमेशा ही बदलेगा। देश की शक्ति और हमारी सेवा-भाव ने, देश को हर बाहरी से बाहर है।”

प्रेग्नेंसी के लिए इस तरह के संचार के लिए आवश्यक हैं एंप्लॉयमेंट के लिए पोस्ट किए जाने वाले डेटाबेस के लिए आवश्यक हैं जब बाबूलाल उपाध्याय, प्रेत लोक शिरिषा गुज़नी और दैत्य से वायरस की आपूर्ति की जाने वाली टीम की आपूर्ति की जाएगी। के समूह आँकड़ा से तुलना करने के लिए।
(भाषा के साथ)

सबसे ज्‍यादा

.

Related posts

किशोर मधुमेह से प्रभावित सात लाख बच्चे

admin

हेंड्रिक बनाम NASCAR चैम्पियनशिप पिट्स बेस्ट। गिब्स में सबसे अच्छा | खेल समाचार

admin

वेस्ट हैम यूनाइटेड ने चेक अरबपति के साथ सौदे की पुष्टि की

admin

Leave a Comment