News7todays
Uncategorized

देश में हुई कई जगह आकाशीय बिजली गिरने से हुई मौत, प्रधानमंत्री ने किया दुःख प्रकट, जाने इससे कैसे बचे

नमस्कार दोस्तों आपको बता दूँ की कल का दिन कई भारतीय परिवार के लिए दुःखी खबर लेकर आया। ये दुःख उस समय आया जब देश के कई हिस्सों में मानसून का आगमन बारिश के साथ हुआ। बारिश के दौरान आकाशीय बिजली गिरना बेहद आम बात मानी जाती है। लेकिन ये आम सी बात अक्‍सर लोगों की जान ले लेती है। रविवार को हुई आकाशीय बिजली में राजस्‍थान, झारखंड, पश्चिम बंगाल, उत्‍तर प्रदेश समेत कई अन्‍य राज्‍यों में भी इसकी वजह से कई लोगों की जान चली गई। जानकारी के मुताबिक राजस्‍थान राज्य में 23 लोगों की आकाशीय बिजली गिरने से मौत हो गई । वहीं 28 घायल हो गए । पीएम नरेंद्र मोदी समेत राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने भी मृतकों के प्रति संवेदना जताई है। बिजली गिरने से जयपुर में ही करीब 16 लोगों की मौत हुई है। इनमें से 11 की मौत जयपुर के आमेर किले पर बने वॉच टावर पर उस वक्‍त हुई जब ये लोग यहां पर सेल्‍फी ले रहे थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने क्या कहा

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हुयी घटना में मारे गए लोगों के प्रति अपनी संवेदना व्‍यक्‍त की है। उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा है कि ‘राजस्थान के कुछ इलाकों में आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। इस खबर से अत्यंत दुख हुआ है। मैं मृतकों के परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। 

आकाशीय बिजली गिरने से कैसे बचे

  • इससे बचने के उपाय की यदि बात करें तो यदि आप घर में हैं तो आंधी या बारिश के समय अपने टीवी, रेडियो। 
  • फ्रिज या अन्‍य दूसरी बिजली की चीजों के प्‍लग निकाल दें और इन्‍हें ऑफ कर दें। 
  • बारिश के दौरान मोबाइल का उपयोग करने से भी बचें। नंगे पांव फर्श पर न खड़ें हों। इलेक्ट्रिक एपलाइंस से दूरी बनाकर रखें।
  •  साथ ही ऐसी चीजों से भी दूर रहे जो बिजली गिरने पर इसके कंडक्‍टर की भूमिका में आ सकते हैं। जैसे लोहे के पाइप आदि। 
  • पेड़ के नीचे या खुले मैदान में जानें से बचें और खुद को किसी इमारत के नीचे छिपकर बचाने की कोशिश करें।
  • आपको बता दें कि किसी भी तरह की मजबूत चाहरदिवारी इंसान की जान बचा सकती है। 

Related posts

ममता का दावा, कांग्रेस ने बीजेपी से ‘समझौता’ किया, अपने पूर्व सहयोगी पर भरोसा करने से किया इनकार

admin

जलवायु संकट की व्याख्या: शुद्ध शून्य उत्सर्जन क्या है और क्या इसे 2050 तक प्राप्त किया जा सकता है?

admin

2002 गुलबर्ग हत्याकांड: गुजरात उच्च न्यायालय ने तीन और दोषियों की आजीवन कारावास की सजा निलंबित की

admin

Leave a Comment