हेल्थ

दाल खाने के क्या क्या फायदे होते हे | Latest News 2022

दाल के क्या क्या लाभ है

भारतीय लोग आहार अधिकतर फसलों और अनाजों पर आधारित हैं| हर भोजन में गेहू, दाल, चावल इन सबको पसंद करते हैं| क्योकि यह सभी आहार पोषक तत्व हैं| तथा इन सब से कई प्रकार के लाभ होते हे| दाल

परन्तु आज के समय में ज्यादातर लोग फ़ास्ट फ़ूड पर ध्यान देते है| तथा गेहू जैसे आहार पोषक तत्व पर ध्यान नहीं देते हे तथा खाने में भी बोथ कम कर दिया हैं|

जिसका प्रभाव बच्चों व् बड़ो पर बहुत गलत पड़ता हैं जिसे बच्चो के स्वास्थय पर गलत असर पड़ता हें|
दाल भारतीय आहारों में से एक है| दाल

दालों में यह खासियत होती हैं की आंच पर पकने के बाद भी उनकी पौष्टिक तत्व जैसे की प्रोटीन आदि सुरक्षित रहते है| दाल एक ऐसा आहार हैं|

जो पौष्टिक के साथ- साथ स्वादिष्ट भी है| भारतीय लोगो को दाल के बिना भोजन अधूरा लगता हैं|

दाल के अंदर फाइबर पाया जाता हैं | जो व्यक्ति के खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में साहायता करता हे | जो दिल के लिए अच्छा  रहता  हैं |

दाल ,प्रोटीन ,विटामिन , और खनिज के साथ साथ आयरन ,फोलेट , जिंक , मैग्नीशियम का एक स्रोत हैं |
इशलिए दाल स्वास्थय के लिए लाभदायक होती हे

दाल में प्रोटीन बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता हैं | जो कि हमारे शरीर  का विकास होता हैं |

जो की हमारे शरीर में काम करने की प्रक्रिया सुचारु रूप से होती हैं |  दाल बहुत प्रकार की होती हैं | दाल

दाल पांच प्रकार की होती हैं 

1 . मशहूर की दाल

2 . उड़द की दाल

3 . चने की दाल

4 . मुंग की दाल

5 . अरहर की दाल

मशहूर की दाल के लाभ  

मशहूर दाल
मशहूर दाल

मशहूर दाल की प्रकृति गर्म होती हैं | इस दाल को खाने से शरीर में खून की मात्रा बढ़ जाती हैं |

इस दाल को खाने से दस्त और कब्ज की बीमारी ठीक होती हैं | तथा पेट से सबंधित साडी बीमारिया ठीक हो जाती हे | मशहूर की दाल को भीगकर फिसकर भारतीय लोग आहार अधिकतर फसलों और अनाजों पर आधारित हैं|

हर भोजन में गेहू, दाल, चावल इन सबको पसंद करते हैं| क्योकि यह सभी आहार पोषक तत्व हैं| तथा इन सब से कई प्रकार के लाभ होते हे| दाल

उड़द की दाल 

उड़द दाल

उड़द की दाल पेट के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती है। क्योंकि उड़द की दाल में फाइबर अच्छी मात्रा में पाया जाता है।

इसलिए इसका सेवन करने से पाचन तंत्र बेहतर होता है।

बढ़ती उम्र के साथ हड्डियां कमजोर होने लगती है, जिसकी वजह से जोड़ों में दर्द की शिकायत हो जाती है।

लेकिन अगर आप उड़द की दाल का सेवन करते हैं, तो इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। क्योंकि उड़द की दाल में कैल्शिमय की भरपूर मात्रा पाई जाती है।

चने की दाल

चने दाल

चने के फायदे सिर्फ पेट भरने तक सीमित नहीं हैं, बल्कि यह शरीर की कई तकलीफों में लाभदायक साबित हो सकता है।

वहीं, इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि काबुली चना किसी भी बीमारी का इलाज नहीं है।

इसका सेवन शरीर को स्वस्थ रखने और बीमारियों से बचने के लिए किया जा सकता है। नीचे जानिए स्वास्थ्य के लिए चना खाने के फायदों के बारे में। दाल

 

मुंग की दाल

मुंग दाल

मुंग की दाल  में आयरन, पोटैशि‍यम, कैल्शियम, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स और प्रोटीन जैसे तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर की कमजोरी को दूर करने और एनर्जी को बूस्ट करने में मदद कर सकते हैं.

शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर मूंग दाल का सेवन लाभकारी माना जाता है, मूंग दाल के सेवन से अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को शरीर से हटाने में मदद मिल सकती है

अरहर की दाल

अरहर दाल

अरहर दाल के सेवन से आपको जल्दी वजन घटाने में मदद मिलती है। दरअसल अरहर की दाल में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है, जिसकी मदद से आपका पेट लंबे समय तक भरा रहता है

और शरीर को आवश्यक तत्व भी मिलते हैं। इसकी मदद से आप जल्दी ही अपना वजन घटा सकती है। साथ ही प्रोटीन शरीर की कोशिकाओं के विकास के लिए भी काफी महत्वपूर्ण होता है।

अरहर की दाल में पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिसकी मदद से हाई ब्लड प्रेशर को कम किया जा सकता है। यदि आप हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित हैं,

तो आपका हृदय रोगों का खतरा भी हो सकता है इसलिए अपने बीपी को कंट्रोल करने के लिए आप अरहर दाल का सेवन कर सकते हैं। दाल

दाल में उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिसकी मदद से भोजन का पाचन आसानी से हो जाता है। साथ ही इसके सेवन से गैस और अपच की शिकायत भी नहीं होती है।

यह भोजन के सही पाचन के साथ-साथ ऊर्जा भी प्रदान करता है, जिससे आपका शरीर पूरे दिन चुस्त-दुरुस्त रहता है।

 

Read Also – बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार की फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज चौहान’ हाल ही में सिनेमाघरों में रिलीज की गई थी.

Read Also – फ्यूल के भारी संकट से जूझ रहे श्रीलंका में अगले महीने से पेट्रोल-डीजल का साप्ताहिक कोटा तय किया

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button