Movie prime
रवि किशन का जीवन परिचय Ravi Kishan Biography In Hindi 
रवि किशन का जन्म 17 जुलाई 1969 को मुंबई में हुआ था और उनका निवास स्थान भी मुंबई ही है लेकिन उनका असली घर उत्तर प्रदेश के जौनपुर में है।
 

नमस्कार दोस्तों आज हम एक ऐसे शख्स के बारे में जानेगे जिन्होंने एक गरीब परिवार में जन्म लेने के बाद भोजपुरी और हिंदी सिनेमा में अपनी छाप छोड़ने के बाद राजनीती में कदम रखा और फिर वह भी एक बड़ी सफलता हासिल की और भारत के उत्तर प्रदेश राज्य से सांसद बन गए। जी हाँ दोस्तों हम बात कर रहे है सुपरस्टार रवि किशन जी के बारे में। 

रवि किशन का जन्म और परिवार (Ravi Kishan Birth and Family)

रवि किशन का जन्म 17 जुलाई 1969 को मुंबई में हुआ था और उनका निवास स्थान भी मुंबई ही है लेकिन उनका असली घर उत्तर प्रदेश के जौनपुर में है। रवि किशन के पिता का नाम पंडित श्यामा नारायण शुक्ला है जो कि पेशे से एक पंडित हैं। उनकि माता का नाम जदावती देवी है। रवि शादीशुदा है और उनसे उन्हें 4 बेटियां भी हैं।

रवि किशन के निजी जिंदगी (Personal life of Ravi Kishan)

रवि किशन के निजी ज़िंदगी कि बात करें तो वह बहुत ही दिलखुश इंसान हैं और सकारात्मक रहना पसंद करते हैं। पहले वह अपने परिवार के साथ मुंबई में ही रहते थे और उनका जन्म भी मुंबई के ही एक चौल में हुआ था लेकिन जब वह 10 साल के थे तो किसी कारणवश उनके परिवार को मुंबई छोड़ कर उत्तर प्रदेश जाना पड़ा जिसके बाद 17 साल कि उम्र में उनकि माँ ने उन्हे 500 रुपए दे कर मुंबई भेजा था। रवि किशन विवाहित हैं, सही वक्त आने के बाद वह प्रीती किशन के साथ शादी के बंधन में बंध गए थे और उनकि 4 बेटियां भी हैं। इसके बाद उन्होंने राजनीती में आना चाहा और आये भी साथ ही जीते भी। 

रवि किशन का फ़िल्मी करियर (Film career of Ravi Kishan)

रवि किशन के फिल्मी करियर पर नज़र डाले तो उनका सफर काफी संघर्षपूर्ण रहा है और उनका यह संघर्ष छोटी सी उम्र से ही शुरू हो गया था। जब वह मुंबई आए थे तब वह केवल उम्र केवल17 साल थी। अपना जीवन व्यतीत करने के लिए वह शुरुआती दौर में एक रामायण के नाटक में काम किया करते थे जिसमे वह सीता कि भूमिका निभाते थे। उन्होने अपने फिल्मी सफर कि शुरूआत साल 1992 में आई फिल्म पीताम्बर से शुरू किया था जिसमें उनके अभिनय को लोगों द्वारा सराहा गया। वहीं साल 2006 में वह बिग बॉस के प्रतिभागी भी रहे और फाइनल तक जा पहुंचे। लेकिन उन्हे बतौर अभिनेता असली पहचान साल 2003 में सलमान खान की आयी हिट फिल्म तेरे नाम से मिली, इस फिल्म में उन्होने एक पुजारी का किरदार निभाया था जिसमें उन्हे लोगों ने काफी पसंद किया था। इसके अलावा उन्होने अनगिनत भोजपूरी फिल्मे की हैं जिसमे उनका एक dialogue ज़िदगी झंडवा…फिर भी घमंडवा बेहद लोकप्रीय हुआ और आज भी वो हर किसी कि ज़ुबान पर होता है। 

रवि किशन का राजनीति करियर (Ravi Kishan political career)

किशन उत्तर प्रदेश के जौनपुर निर्वाचन क्षेत्र से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) में शामिल हुए, और 2014 के आम चुनावों में चुनाव लड़े, जहाँ पर उन्होंने केवल 42,759 वोट या कुल वोटों का 4.25 प्रतिशत ही हासिल किया और छठे स्थान पर रहे। इसके बाद रवि ने फरवरी 2017 में कांग्रेस पार्टी छोड़ दी और भाजपा में जाकर शामिल हो गए।

15 अप्रैल 2019 को भारतीय जनता पार्टी ने 2019 के आम चुनाव के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी किया। इस दौरान रवि किशन का नाम गोरखपुर के लिए रखा गया था। इसके बाद उन्होंने उत्तर प्रदेश के गोरखपुर निर्वाचन क्षेत्र में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार रामभूल निषाद के खिलाफ 2019 का आम चुनाव लड़े। रवि ने रामभूल निषाद को 3,01,664 भारी मतों से हराया। रवि किशन को 7,17,122 वोट मिले, जबकि रामभूल निषाद को 4,15,458 वोट मिले।