गायक भूप‍िंदर स‍िंह अब नहीं रहे अंत‍िम सांस ली मुंबई में, Singer Bhupinder Singh breathed his last in Mumbai| Latest Update 2022|

गायक
गायक

बॉलीवुड के जाने-माने गायक भूपिंदर सिंह का 82 साल की उम्र में मृत्यु हो गयी थी , उनकी पत्नी और सिंगर मिताली सिंह ने भी  इनकी जानकारी दी थी . भूपिंदर ने मुंबई में लास्ट अंतिम सांस ली थी . पत्नी मिताली सिंह ने यह बताया था।

कि डॉक्टरों ने उन्हें कोलोन का  कैंसर होने का अंदाज जताया था. 9 दिन पहले भूपिंदर सिंह को यूरिन इंफ्केशन की वजह से अस्पताल में भर्ती कराया गया था . जहां वो कोरोना पॉजिटिव भी निकल गए थे .

भूपिंदर सिंह ने फिल्म इंडस्ट्री को पांच दशकों तक अपनी आवाज दी थी ,अकेले इस शहर में थोड़ी सी जमीन थोड़ा आसमां, दुनिया छूटे यार ना छूटे, करोगे याद तो जैसे उनके गाने नई पीढ़ी भी चाव से सुनते हैं।

कई बॉलीवुड गानों के लिए प्रसिद्ध भूपिंदर सिंह ने सोमवार शाम को मुंबई के अंधेरी स्थित क्रिटिकेयर अस्पताल में शाम 7:45 बजे अंतिम सांस ली थी । सिंगर की पत्नी मिताली ने आईएएनएस को बताया था

कि , ‘वह कुछ समय से कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे थे। इसमें यूरिनरी समस्याएं भी शामिल हुई थीं।’ 82 वर्षीय गायक भूपिंदर सिंह पिछले 6 महीने से अस्वस्थ थे।

उनका दाह संस्कार मंगलवार दोपहर 12.30 बजे ओशिवारा श्मशान घाट पर हुआ था ।

भूपिंदर सिंह ने पिता से ली थी संगीत की शिक्षा

गायक
गायक

भूपिंदर का जन्म 6 फरवरी, 1940 को अमृतसर के पंजाब शहर में हुआ था। उनके पिता प्रोफेसर नत्था सिंह एक बेहतरीन संगीतकार थे, लेकिन मौसिकी सिखाने में सख्ती बरतते थे। सबसे पहले भूपिंदर को संगीत की शिक्षा नत्था सिंह ने ही प्रदान की थी। पिता की सख्ती के कारण सिंह को संगीत से नफरत हो गई थी लेकिन धीरे-धीरे उनके मन में संगीत के प्रति प्रेम जागृत होने लगा था। और फिर वो सीखते चले गए थे ।

मुंबई

गायक
गायक

बॉलीवुड के दिग्गज पार्श्व गायक भूपिंदर सिंह का निधन सोमवार शाम को हो गया था. उनकी पत्नी और गायिका मिताली सिंह ने ये जानकारी दी थी कि. कुछ समय से यूनियन संबंधी समस्याओं सहित कई स्वास्थ्य जटिलताओं से दुखी हो रहे थे. 82 वर्षीय गायक के अंतिम संस्कार से जुड़ी जानकारी की अभी प्रतिक्षा की जा रही थी.

सिंह को “ मौसम “, “ सत्ते पे सत्ता “, “ अहिस्ता अहिस्ता “, “ दूरियां “, “ हकीकत “ और कई सारी फिल्मों में उनके यादगार गीतों के लिए याद किया जाता है. तथा उनके कुछ प्रसिद्ध गीत “ होके मजबूर मुझे, उसे बुलाया होगा “,( मोहम्मद रफी, तलत महमूद और मन्ना डे के साथ), “ दिल ढूंढता है “, “ दुकी पे दुकी हो या सत्ते पे सत्ता “ लोगों के जुबान में चढे हुए हैं।

संगीत से नफरत वाली कहानी

गायक
गायक

पहले बात ऐसे करते थे कि उनके संगीत से नफरत वाली कहानी की थी । भूपिंदर सिंह को संगीत उनके पिता प्रोफेसर नत्था सिंह ने यह  सिखाया था कि । उनके पिता स्वयं एक बेहतरीन संगीतकार थे,

लेकिन वह इस बात को लेकर बड़े कठिन थे। कि मौसिकी सीखने वाला शिष्य गंभीर हो। तथा उनकी इसी सख्ती की वजह से  भूपेंद्र को संगीत से ही चिढ़ होने लगी थी, लेकिन  जैसे-तैसे  समय बीतता गया था।उनके अंदर संगीत के लिए  प्रेम भावना जाग गयी ,और वह देश के प्रसिद्ध गजल गायकों  कलाकारो में शुमार हुए।

 डायरेक्टर मदन मोहन ने पहचाना ‘हीरा 
गायक
गायक

गायक बनने के सफर की शुरुआत हुई थी। और  म्यूजिक डायरेक्टर मदन मोहन की नजर से। मदन मोहन ने एक कार्यक्रम के दौरान भूपिंदर सिंह को गाते हुए सुना, उन्हें भूपिंदर सिंह की कला खूब भाई। इसी का परिणाम मिला और जल्द ही भूपिंदर सिंह को मदन मोहन की तरफ से गाने के लिए बुलावा भेजा गया।

पहले ही मौके में भूपिंदर सिंह को मोहम्मद रफी, तलत महमूद और मन्ना डे के साथ गाने का अवसर मिला। फिल्म हकीकत के गाने ‘होके मजबूर उसने मुझे बुलाया होगा’ को भूपिंदर सिंह ने आवाज दी, जिसे लोगों ने खूब पसंद किया और यहीं से उनका संगीत की दुनिया में परचम लहराना शुरू हआ।

गाने जो हमेशा दिलाते रहेंगे याद
गायक
गायक

भूपेंद्र सिंह की आवाज दी गई कई बेहतरीन नगमें हमेशा लोगों के कानों को सुख देते रहेंगे।‘नाम गुम जाएगा’, ‘कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता’, ‘दरो-दीवार पे हसरत से नजर करते हैं’, ‘

खुश रहो अहले-वतन हम तो सफर करते हैं’ जैसे गाने गुनगुनाते समय हमेशा भूपिंदर सिंह की याद आती रहेगी। ‘मेरी आवाज ही पहचान है’ जैसे गाने को भी भूपिंदर सिंह ने आवाज दी थी, वही आवाज असल में इस महान कलाकार की पहचान है।

Read Also – बॉलीवुड के जाने-माने गायक भूपिंदर सिंह का 82 साल की उम्र में निधन हो गया.

Read Also – सोशल मीडिया पर हादसे की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.