Home खबर कोरोना वायरस पर चीन से एकजुटता दिखाना, PAK को पड़ा भारी, लोग...

कोरोना वायरस पर चीन से एकजुटता दिखाना, PAK को पड़ा भारी, लोग उतरे सड़को पर

24
0

2100 से ज्यादा लोगो की मौत पूरे विश्व में

कोरोना वायरस से पूरे विश्व में अब तक 2100 से ज्यादा लोगों की जान चली जा चुकी है. इसके अलावा 75000 से ज्यादा मसले सामने दिखाई दे चुके हैं. इसी बीच चीन में फंसे पाकिस्तानी छात्रों को अब भी वहां की सरकार नहीं निकाल पाई. पाकिस्तान ने चीन से एकता दिखाने के लिए अपने छात्रों को वहां से नहीं निकाला था. यह फैसला उस पार भारी पड़ता नजर आ रहा है।

अपने देश से अपील करते हुए स्टूडेंट्स का वीडियो वायरल

दरअसल, पिछले दिनों इंटरनेट पर कई ऐसे वीडियो वायरल हुए जिसमें चीन के वुहान में फंसे पाकिस्तानी स्टूडेंट्स अपने

हज़ारो ने जान गवा दी वायरस से

देश की सरकार से इमोशनल अपील करते दिखे. उन्होंने यह अपील की थी कि उन्हें यहां से निकाला जाए। जिन छात्रों ने अपील की थी उनके विश्वविद्यालयों के कई छात्रों के कोरोना वायरस से प्रभावित होने की बात सामने आई थी। इतना ही नहीं इधर पाकिस्तान की जनता ने भी अपनी सरकार से छात्रों को वापस लाने की बात कही थी।

अब पाकिस्तान की जनता और छात्रों के परिजन इसी मांग को लेकर सड़कों पर उतर गए हैं. एएनआई की एक रिपोर्ट के हिसाब से वुहान में फंसे पाक छात्रों के माता-पिता ने इस्लामाबाद में विरोध प्रदर्शन किया और बच्चों को वहां से वापस निकालने की गुहार लगाई.

रिपोर्ट के हिसाब से परिवार वालों ने हुबेई प्रांत में रहने वाले अपने सैकड़ों नागरिकों को बाहर निकालने के लिए पाकिस्तान सरकार के इनकार पर अपनी निराशा को व्यक्त किया है।

चीन से एकजुटता दिखाने के लिए पाक नहीं निकाल रहा अपने स्टूडेंट्स को

पाकिस्तान सरकार ने घोषणा की थी कि वो चीन से अपनी जनता को फिलहाल अभी वापस नहीं बुलाएगी। पाकिस्तानी सरकार ने कहा था कि वह चीन के साथ अपनी इस समय मजबूती से खड़ा है और चीन से एकजुटता दिखाने के लिए वह अपने छात्रों को वापस नहीं निकाल रहा है. वैसे तो पाकिस्तान सरकार ने कहा था कि चीन के संपर्क में है और वहां अपने नागरिकों के लिए जरूरी व्यवस्थाएं कर रही है.

इस मामले में इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने भी सरकार से कहा था कि वह चीन से पाकिस्तानियों को वापस नहीं लाने के फैसले पर दोबारा सोच विचार करे. कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि बांग्लादेश अपने नागरिकों को वहां से निकाल सकता है तो पाकिस्तान क्यों नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here