हेल्थ

अरबी खाने के फायदे व नुकसान | Latest Update 2022 Advantages and disadvantages of eating arbic

अरबी के फायदे

अरबी

आसानी से मिल जाने के बाद भी अरबी को बहुत अधिक लोकप्रिय सब्जी नहीं माना गया  है पर इसके फायदे चौंकाने वाले हैं. ये फाइबर, प्रोटीन, पोटैशियम, विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम और आयरन से काफी मात्रा में पायी जाती है।

अरबी जमींन के नीचे बोयी जाती है। तथा इसका इस्तेमाल सब्जी बनाने में किया जाता है।  क्या आपको पता है, यह टेस्टी सब्जी न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती है, बल्कि अपने सेहत के लिए भी बहुत ही फायदेमंद मानी जाती है। पहले यह सब्जी सिर्फ एशिया में प्रसिद्ध थी, लेकिन इसके स्वाद और सेहत के गुणों के कारण यह धीरे-धीरे पूरे विश्व में फैल गई। स्टाइलक्रेज के इस आर्टिकल में हम अरबी के बारे में ही बात करेंगे।

अरबी कैंसर व आंखों की बीमारी, हृदय रोग व डायबिटीज जैसी कई सारी बीमारियों में औषधि के रूप में काम आ सकती है।

 हृदय रोगी के लिए अरबी के फायदे

अरबी
अरबी

अरबी में उपस्थित फाइबर और स्टार्च आपको हृदय रोग से बचाकर स्वस्थ रखने में सहायता कर सकते हैं। तथा शोध में पाया गया है कि जिन लोगों के आहार में फाइबर उपस्थित होता है, उन्हें हृदय रोग होने की संभावना कम होती है। अरबी में मौजूद रेजिस्टेंस स्टार्च, फाइबर की तरह ही काम करता है। यह कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल में करता है। और हृदय को अलग अलग प्रकार की बीमारियों से बचाता है।

कैंसर के लिए अरबी खाने के फायदे

Arabic को पॉलीफेनॉल्स का सबसे  अच्छा स्रोत माना गया है। पॉलीफेनॉल्स में कैंसर के जोखिम को कम करने की क्षमता सम्मिलित होती है। पॉलीफेनॉल्स कैंसर सेल को बढ़ने से रोक सकते हैं। साथ ही ट्यूमरजेनिक कोशिकाओं को भी कम करने में बहुत सहायता करते हैं। ये ट्यूमरजेनिक कोशिकाएं ही होती हैं, जो ट्यूमर को बढ़ाकर कैंसर का कारण बन जाती है।

पाचन तंत्र में अरबी के लाभ

अरबी
अरबी

Arabic  खाने के फायदे ये होते हैं कि इसमें फाइबर काफी  मात्रा में पाया जाता है, जिस कारण यह हमारे पाचन तंत्र के लिए बेस्ट आहार होता  है। फाइबर की सहायता से पाचन तंत्र अच्छे तरीके से काम करता है, जिस कारण भोजन को पचाने में बहुत सहायता मिलती है। इसके अलावा, यह गैस, ऐंठन, कब्ज और दस्त जैसी बीमारी को भी रोकने में सहयता  कर सकता है।

वजन को कम करने में सहायक

Arabic को फाइबर का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है ।क्योकि फाइबर को खाने  से भूख बहुत कम लगती है ,और शरीर में ऊर्जा भी बनी हुई रहती है। तथा कम आहार लेने से वजन में गिरावट आने लगती है । मोटापे से पीड़ित लोग वजन कम करने के लिए  अपने भोजन में फाइबर युक्त Arabic को भी शामिल किया जाता है।

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करे

अरबी
अरबी

Arabic के पत्ते में एंटी-इंफ्लेमेटरी, हाइपोलिपिडेमिक, एंटी-कैंसर व एंटीऑक्सीडेंट  बहुत गुण पाए जाते है। इन्हीं गुणों के कारण इसका उपयोग आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा पद्धति में उच्च रक्तचाप जैसी कई सारी  बीमारियों के इलाज के लिए उपयोग में किया जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए

रोग प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए विटामिन-ई और विटामिन-सी जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। वहीं, Arabic में विटामिन-ई और सी दोनों ही अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए, Arabic को आहार में शामिल करने से हमें विटामिन-ई और विटामिन-सी दोनों ही प्राप्त होंगे, जिससे  रोग प्रतिरोधक क्षमता  को बहुत अच्छा किया जा सकता है।

Arabic  में विटामिन ई और मैग्नीशियम बहुत मात्रा में पाया जाता  है। ये मांसपेशियों के निर्माण और उनकी देखभाल करने में बहुत ज्यादा सहायता करता है।

स्वस्थ आंखों के लिए अरबी के फायदे

Arabic में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी का  गुण भी बहुत मात्रा में पाए जाते हैं। जो कि बढ़ती हुई उम्र में आंखों की सेहत के लिए  बहुत जरूरी होते हैं । साथ ही इसमें विटामिन-ए, सी व जिंक जैसे जरूरी तत्व भी पाए जाते हैं।  जो आंखों की रोशनी को बढ़ाकर इससे होने वाली कई सारी बीमारियों को दूर करने में सहायक हो सकते हैं।

थकान को कम करें

अरबी
अरबी

Arabic में पाया जाने वाला फाइबर खाने को पचाने की प्रक्रिया को कम करता है। और शरीर को लंबे समय तक चुस्त बनाए रखने के लिए ऊर्जा देने में बहुत सहायता करता है। इससे थकान कम हो जाती है । इस लिहाज से यह एथलीटों के लिए अच्छा खाद्य पदार्थ साबित हो सकता है।

अरबी के नुकसान 

अरबी
अरबी

Arabic के फायदे और नुकसान दोनों ही हैं। कच्ची Arabic जहरीला हो सकती है। ऐसे में इसे खाने से इसके नकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

ऑक्सालिक एसिड : Arabic में ऑक्सालिक एसिड की मात्रा बहुत अधिक होती है। पत्तियों और जड़ों में उपस्थित यह एसिड त्वचा और मुंह में जलन पैदा कर सकता हैं। और अधिक मात्रा में ऑक्सालिक एसिड का सेवन करने से पथरी की शिकायत भी हो सकती है।

किडनी स्टोन : मूत्र में कैल्शियम, ऑक्सालेट और फास्फोरस की मात्रा बढ़ने के कारण किडनी में पथरी की समस्या भी हो सकती  है । Arabic में ये तीनों ही पाए जाते हैं। Arabic को अधिकतम खाने से किडनी में स्टोन की शिकायत हो सकती है।

हाइपोग्लाइसीमिया : हाइपोग्लाइसीमिया ऐसी स्थिति है, जिसमें रक्त में शुगर का स्तर बहुत कम हो जाता है । चूंकि, Arabic मधुमेह के लिए  बहुत अच्छी मानी जाती  हैं और इसमें उपस्थित कार्बोहाइड्रेट रक्त में उपस्थित शुगर को कम करने में काम करता है, इसलिए इसको खाते समय यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि अरबी की अधिक खपत से रक्त में शुगर के स्तर में गिरावट आ सकती है।

Read Also – अरबी कैंसर, आंखों की बीमारी, हृदय रोग व डायबिटीज जैसी कई बीमारियों में औषधि के

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button